Raja story in hindi. Vamana and Raja Bali Story(katha) in hindi 2019-01-22

Raja story in hindi Rating: 8,8/10 1430 reviews

Vamana and Raja Bali Story(katha) in hindi

raja story in hindi

वे यह सोच ही रहे थे कि विश्वामित्र बोल पड़े- तुम हमारा समय व्यर्थ ही नष्ट कर रहे हो. वही पास में एक सन्यासी रहते थे. राजा कन्या की चतुरता को देख कर बहुत प्रसन्न हुए और अपने गले से बहुमूल्य हीरों का हार उस कन्या के गले में डाल दिए , उनको हमेशा हमेशा के लिए दरिद्रता के दुखों से छुड़ा दिए. The movie is produced by Pahlaj Nihalani and Govinda. इसके पिछले भाग में आपने राजा और उसकी दो रानियों की कहानी Story of king and queen पढ़ी थी उसी कहानी के भाग -२ को हम आपके लिए प्रस्तुत कर रहे है- अगर आपने अभी तक कहानी का भाग -१ नहीं पढ़ा है तो आप कहानी — पढ़े.

Next

राजा हरिश्चंद्र की कहानी satyavadi raja harishchandra story in hindi

raja story in hindi

आपके कुछ मिनट हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. तुम सब कुछ जानकार भी मुझ से मेरे दुःख का कारण पूछते हो! दुष्यन्त ने बालक भरत से उसका परिचय पूछा. Hum sab dua karte hain aese hi aap humesha likhte raho. एक दो शव जल रहे थे. अकबर ने टोडरमल को आगरा के कामकाज को देखने जिम्मेदारी दी थी. दोस्तों अगर आपको हमारी आज की ये कहानी satyavadi raja harishchandra story in hindi पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना न भूले और हमें कमेंट्स के जरिए बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल Satyavadi raja harishchandra ki katha कैसा लगा अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Next

राजा परीक्षित की कहानी Raja parikshit katha in hindi

raja story in hindi

उसकी हालत पागलो जैसी होगई थी. बालक के चेहरे पर अद्भुत तेज था. बड़ी रानी को यातना — Badi Rani ko Yatna इस बात का फायदा छोटी रानी ने उठाया और राजा को कहा की बड़ी रानी पागल हो गयी है और उन्हें महल में रखना ठीक नहीं है. मैं ऐसा कैसे कर सकता हूँ? दासी यह चाहती थी की छोटी रानी के किसी तरह से एक संतान हो जाये जिससे वह राज्य की महारानी बन जाये. सन्यासी ने तुरंत ही उन अबोध शिशुओ को गोद में उठा लिया और चारो तरफ देखकर चिल्लाने लगे की शायद कोई गलती से इन बच्चो को यहाँ छोड़ गया है. कहीं तुम मेरी चिन्ता तो नहीं कर रही हो कि अब मेरा केवल एक पैर ही रह गया है या फिर तुम्हें इस बात की चिन्ता है कि अब तुम पर शूद्र राज्य करेंगे? सारा श्मशान सन्नाटे में डूबा था.

Next

Raja Harishchandra Story, Raja Harishchandra Hindi Movie Story, Preview, Synopsis

raja story in hindi

रानी तारामती को एक साहूकार के यहाँ घरेलु काम — काज करने को मिला और राजा को मरघट की रखवाली का काम. ऐसा माना जाता है की गुप्त वंश आने के पहले विक्रमादित्य ने ही भारत पर राज किया था. विश्वामित्र जी ने इसी के साथ राजा हरिश्चंद्र से कुछ मुद्राएं भी मांगी तो राजा विश्वामित्र को मुद्राएं देने के लिए राजी हुए लेकिन विश्वामित्र ने कहा कि तुमने मुझे राज्य के साथ में सब कुछ यानी धन,हीरे जवाहरात सभी मुझे दान में दे दिए है अब तुम्हारे पास मुझे मुद्राए देने के लिए नहीं है अब तुम क्या करोगे तभी राजा हरिश्चंद्र ने उस विश्वामित्र ऋषि के मांगने पर अपनी बीवी बच्चों को ऋषि विश्वामित्र के हवाले कर दिया लेकिन उससे भी उस ऋषि की मांग पूरी न हो सकी उसमें भी कुछ मुद्राएं कम पड़ रही थी उसके बाद राजा हरिश्चंद्र ने अपने आपको भी इस ऋषि को सौंप दिया कि आज से मैं आपका गुलाम हूं इस तरह से राजा हरिश्चंद्र ने अपने आपको उस ऋषि को सौप दिया और एक गुलाम बन चुके थे अब वह अपना सब कुछ खो चुके थे. विश्वामित्र ने समय तो दे दिया किन्तु चेतावनी भी दी कि यदि समय पर दक्षिणा न मिली तो वे शाप देकर भस्म कर देंगे. उसके इन निर्भीक कार्यो से आश्रमवासी उसे सर्वदमन कह कर पुकारते थे. छोटी रानी दासी — Chhoti Rani ki Daasi छोटी रानी के एक दासी थी जो जादू टोना करना जानती थी और कई लोगो पर उसने इसका प्रयोग करके उनको बर्बाद किया था.


Next

राजा की बीमारी Raja kids moral story in Hindi

raja story in hindi

Yehan per uska tatha nksa putra ki mandir bana hua hai jo ab khandhar ho chuka hai. Kids Channel with full of animated short stories, learn and play series, panchtantra series, cartoons, grandma tales, bed time stories etc. यह तो हमारा हो गया. सब लोगो की रजामंदी से साधू वही रहने लगे और मंदिर की देख-रेख, आरती और पूजा का कार्य भी करने लगे. कुछ महानुभावो ने विक्रमादित्य को मलेच्चा आक्रमंकारियो से भारत का परिमोचन कराने वाला भी बताया. ध्यान देने पर उन्होंने पहचान कि स्वप्न में जिस ब्राह्मण को उन्होंने राज्य दान किया था वे महर्षि विश्वामित्र ही थे. वह किसी को भी हनी पंहुचा सकती है.

Next

अहंकारी राजा Ahankaari Raja Moral Story in Hindi

raja story in hindi

इधर जब ऋषि को पता लगा कि मेरे बेटे ने राजा परीक्षित को श्राप दे दिया है तो वह उसी समय राजा परीक्षित के राज महल में जा पहुंचे उन्होंने पूरी बात राजा परीक्षित को कह सुनाई तभी राजा परीक्षित उस ऋषि से कहने लगे कि महात्मा मेरे पास सिर्फ 7 दिन बचे हैं इन 7 दिनो में मुझे ऐसा क्या काम करना चाहिए जिससे मेरा लोक परलोक सुधर जाए तभी उस महर्षि ने उन्हें भागवत कथा को सुनने को कहा. मैं तुम्हे शाप दे दूंगा. वे अपना राज्य विश्वामित्र को सौंप कर अपनी पत्नी व पुत्र को लेकर काशी चले आये. इसी समय पुत्र का शव लिए रानी भी शमशान पर पहुंची. विक्रमादित्य से सम्बंधित काफी कथा-श्रुंखलाये है, जिसमे बेताल बत्तीसी काफी विख्यात है. दुष्यन्त ने भरत का परिचय जानकर उसे गले से लगा लिया और शकुन्तला के पास गये. पहले सेनिकों के वेतन पैसों में दिए जाते थे, राजा टोडरमल ने प्रत्येक स्थान के आय का हिसाब लगाकर सेनिकों में वेतन के बदले में क्षेत्र बाँट दिया, जिसे जागीर कहते थे.

Next

Raja Parikshit and Kalyug story in hindi

raja story in hindi

भरत हस्तिनापुर के राजा दुष्यन्त के पुत्र थे. परन्तु उन्हें पशु पक्षियों के अलावा किसी की आवाज़ सुनाई नहीं दी. साधू द्वारा राजा के बच्चों को शिक्षा Education to Kids राजा के दोनों बच्चों को साधू ने अब अस्त्र-शस्त्र चलाने के साथ ही साथ शास्त्रों का ज्ञान भी देना शुरू कर दिया. एक दिन खेलते — खेलते उसे सांप ने डंस लिया. आओ देखें कि विश्वामित्र ने कैसी परीक्षा ली? उनके अनुनय — विनय करने पर तथा उनकी बातो से वे रानी तथा अपने पुत्र को पहचान गये, किन्तु उन्होंने नियमो में ढील नहीं दी.

Next

सत्यवादी महाराज हरिश्चन्द्र की अमर कहानी ! Raja Harishchandra In Hindi

raja story in hindi

समय बीतने लगा और एक दिन रानी को प्रसव पीड़ा होने लगी यह खबर राजा तक पहुचाई गयी. Would you like to share the story of the movie Rangeela Raja with us? कथा सरितसागर के अनुसार वे उज्जैन के परमार वंश के राजा के पुत्र थे. छोटी रानी को जब यह बात पता चली तो वह दुखी हो उठी उसने राजा से एक वचन लिया की जब बड़ी रानी को प्रसव पीड़ा हो तो वह और उनकी दासी ही उनके पास रहेगी वही सारा कार्य करेगी. आज भी विक्रमादित्य के इतिहास को लेकर बहोत सी बाते की जाती है. आप जैसे महर्षि को दान देकर दक्षिणा कैसे रोकी जा सकती है? शकुन्तला की खोज में भटकते हुए एक दिन वह कश्यप ऋषि के आश्रम में पहुंच गये जहाँ शकुन्तला रहती थी.

Next